Menu

स्‍मारक

सिकंदरा का किला

सिकंदरा का किला आगरे के किले से केवल 13 किलो मीटर की दूरी पर है जो मुगल बादशाह अकबर का अंतिम विश्राम स्‍थल है। अकबर एक महानतम मुगल शासकथा और अपने समय का सबसे अधिक धर्मनिरपेक्ष सोच वाला बादशाह था। वह परिष्‍करण की लम्‍बी परम्‍परा का उत्तराधिकारी, कलाओं का एक महान संरक्षक, साहित्‍य, दर्शन और विज्ञान का पारखी था। अकबर के इस स्‍मारक में जाने पर अकबर के व्‍यक्तित्‍व की सम्‍पूर्णता का पता लगता है, जैसा कि मुमताज महल के लिए ताज महल से होता है। अकबर का व्‍यापक, सुंदर तरीके से तराशी गई, लाल ओकर सैंठस्‍टोन मकबरा हरे-भरे मैदान में स्थित है। अकबर ने स्‍वयं अपने मकबरे की योजना तैयार की थी और इसके लिए उचित स्‍थान चुना था। अकबर के पुत्र जहांगीर ने 1613 में इस पिरामिड के आकार के मकबरे का कार्य पूरा किया।

यह मकबरा बड़े उद्यान के बीच में स्थित है, जिसके चारों ओर ऊँची दीवार हैं। प्रत्‍येक दीवार के बीच में सुंदर प्रवेश द्वार है। पूरा उद्यान पारम्‍परिक चार बाग योजना के अनुसार चार वर्गों में बंटा है। प्रत्‍येक वर्ग एक ऊँची छत से अलग किया गया है या इसके मध्‍य में एक तंग उथली पानी की नहर के साथ ऊँचा उठा हुआ रास्‍ता है। प्रतयेक छत के केन्‍द्र में एक तालाब है, जिसमें फव्‍वारे लगे हैं। एक चौड़ा पैदल रास्‍ता मकबरे तक जाता है, जिसकी पांच मंजिलें हैं और इसका आकार कटे हुए पिरोमिड जैसा है। मुख्‍य मकबरे में अनोखी डिजाइन है, जो अन्‍य सभी मुगल भवनों से एकदम अलग है।