भारत के बारे में जानें
यह पृष्‍ठ अंग्रेजी में (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं)

साक्षरता

जनगणना 2001 के प्रयोजन हेतु 7 वर्ष अथवा इससे अधिक उम्र का कोई व्‍यक्ति जो किसी भाषा में समझ के साथ पढ़ और लिख सकता ह़ै, को साक्षर माना जाता है। एक व्‍यक्ति जो केवल पढ़ सकता है परन्‍तु लिख नहीं सकता, साक्षर नहीं है। वर्ष 1991 के पहले की जनगणनाओं में पाँच वर्ष से कम उम्र के बच्‍चों को अनिवार्य रूप से साक्षर माना जाता था।

वर्ष 2001 के अनंतिम परिणामों से यह पता चलता है कि देश में साक्षरता में वृद्धि हुई है। देश में साक्षरता दर 64.84 प्रतिशत है 75.26 पुरुषों की और 53.67 स्त्रियों की।

केरल ने 90.86 प्रतिशत साक्षरता दर के साथ शीर्ष पर अपनी स्थिति बरकरार रखी है, उसके बाद काफी कम अंतर से मिजोरम (88.80 प्रतिशत) और लक्षद्वीप (86.66 प्रतिशत) का स्‍थान आता है। 47.00 प्रतिशत की साक्षरता दर के साथ देश में बिहार का स्‍थान अंतिम है, इसके पहले झारखंड (53.56 प्रतिशत) तथा जम्‍मू और कश्‍मीर (55.52 प्रतिशत) का स्‍थान है। केरल देश में 94.24 प्रतिशत की पुरुष साक्षरता और 37.72 प्रतिशत की स्‍त्री साक्षरता दोनों में भी शीर्ष स्‍थान रखता है। इसके ठीक विपरीत बिहार में पुरुष (59.68 प्रतिशत) और स्‍त्री (33.12 प्रतिशत) दोनों साक्षरता दरों में निम्‍न‍तम स्‍थान रखता है।

राज्‍यों की रेंकिंग/संघ राज्‍य क्षेत्र साक्षरता दर द्वारा व्‍यक्ति, पुरुष और महिलाएं, जनगणना, 2001
  व्‍यक्ति पुस्र्ष स्त्री
रैंक राज्‍य/संघ राज्‍य क्षेत साक्षरता दर राज्‍य/संघ राज्‍य क्षेत साक्षरता दर राज्‍य/संघ राज्‍य क्षेत्र साक्षरता दर
1. केरल 90.86 केरल 94.24 केरल 87.72
2. मिजोरम 88.80 लक्षद्वीप 92.53 मिजोरम 86.75
3. लक्षद्वीप 86.66 मिजोरम 90.72 लक्षद्वीप 80.47
4. गोवा 82.01 पुडुचेरी 88.62 चण्‍डीगढ़ 76.47
5. चण्‍डीगढ़ 81.94 गोवा 88.42 गोवा 75.37
6. दिल्‍ली 81.67 दिल्‍ली 87.33 अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह 75.24
7. अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह 81.30 दमन एवं दीव 86.76 दिल्‍ली 74.71
8. पुडुचेरी 81.24 अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह 86.33 पुडुचेरी 73.90
9. दमन एवं दीव 78.18 चण्‍डीगढ़ 86.14 हिमाचल प्रदेश 67.42
10. महाराष्‍ट्र 76.88 महाराष्‍ट्र 85.97 महाराष्‍ट्र 67.03
11. हिमाचल प्रदेश 76.48 हिमाचल प्रदेश 85.35 दमन एवं दीव 65.61
12. तमिलनाडु 73.45 उत्तराखंड 83.28 त्रिपुरा 64.91
13. त्रिपुरा 73.19 तमिलनाडु 82.42 तमिलनाडु 64.33
14. उत्तराखंड 71.62 त्रिपुरा 81.02 पंजाब 63.36
15. मणिपुर1 70.53 मणिपुर1 80.33 नागालैण्‍ड 61.46
16. पंजाब 69.65 गुजरात 79.66 मणिपुर1 60.53
17. गुजरात 69.14 हरियाणा 78.49 सिक्किम 60.40
18. सिक्किम 68.81 छत्तीसगढ़ 77.38 उत्तराखंड 59.63
19. पश्चिम बंगाल 68.64 पश्चिम बंगाल 77.02 पश्चिम बंगाल 59.61
20. हरियाणा 67.91 कनार्टक 76.10 मेघालय 59.61
21. कनार्टक 66.64 मध्‍य प्रदेश 76.06 गुजरात 57.80
22. नागालैण्‍ड 66.59 सिक्किम 76.04 कनार्टक 56.87
23. छत्तीसगढ़ 64.66 राजस्‍थान 75.70 हरियाणा 55.73
24. मध्‍य प्रदेश 63.74 ओडिशा 75.35 असम 54.61
25. असम 63.25 पंजाब 75.23 छत्तीसगढ़ 51.85
26. ओडिशा 63.08 असम 71.28 ओडिशा 50.51
27. मेघालय 62.56 दादरा तथा नगर हवेली 71.18 आंध्र प्रदेश 50.43
28. आंध्र प्रदेश 60.47 नागालैण्‍ड 71.16 मध्‍य प्रदेश 50.29
29. राजस्‍थान 60.41 आंध्र प्रदेश 70.32 राजस्‍थान 43.85
30. दादरा तथा नगर हवेली 57.63 उत्‍तर प्रदेश 68.82 अरूणाचल प्रदेश 43.53
31. उत्‍तर प्रदेश 56.27 झारखण्‍ड 67.30 जम्‍मू एव कश्‍मीर 43.00
32. जम्‍मू एव कश्‍मीर 55.52 जम्‍मू एव कश्‍मीर 66.60 उत्‍तर प्रदेश 42.22
33. अरूणाचल प्रदेश 54.34 मेघालय 65.43 दादरा तथा नगर हवेली 40.23
34. झारखण्‍ड 53.56 अरूणाचल प्रदेश 63.83 झारखण्‍ड 38.87
35. बिहार 47.00 बिहार 59.68 बिहार 33.12

टिप्पणियां : मणिपुर के आंकडों में तीन उप प्रभागों के आंकडे शामिल नहीं हैं जो हैं माओ, मराम, पाओमाटा, जो मणिपुर के सेनापाति जिले में आते हैं क्‍योंकि इन तीनों उप प्रभागों की 2001 जनगणना के परिणाम तकनीकी और प्रशासनिक कारणों से रद्द कर दिए गए थे। साक्षरता दरें सात वर्ष और उससे अधिक उम्र की जनसंख्‍या से संबंधित हैं।

स्रोत: इंडिया बुक - एक संदर्भ वार्षिक